Recent Articles

राष्ट्रवाद पर निबंध कैसे लिखें 

राष्ट्रवाद एक ऐसी अवधारणा है जिसमे राष्ट्र सर्वोपरि होता है अर्थात राष्ट्र को सबसे अधिक प्राथमिकता दी जाती है | यह एक ऐसी विचारधारा है जो किसी भी देश के नागरिको के साझा पहचान को बढ़ावा देती है | कसी भी राष्ट्र की उन्नति एवं प्रसन्नता के लिए नागरिकों में सांस्कृतिक धार्मिक और भाषाई विविधता के ऊपर उठकर राष्ट्र के प्रति गौरव की भावना को मजबूती प्रदान करना आवश्यक है और इसमें राष्ट्रवाद एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है |


1857 की क्रांति

लॉर्ड कैनिंग के गवर्नर-जनरल के रूप में शासन करने के दौरान ही 1857 ई. की महान क्रान्ति हुई। इस क्रान्ति का आरम्भ 10 मई, 1857 ई. को मेरठ से हुआ, जो धीरे-धीरे कानपुर, बरेली, झांसी, दिल्ली, अवध आदि स्थानों पर फैल गया। इस क्रान्ति की शुरुआत तो एक सैन्य विद्रोह के रूप में हुई, परन्तु कालान्तर में उसका स्वरूप बदल कर ब्रिटिश सत्ता के विरुद्ध एक जनव्यापी विद्रोह के रूप में हो गया, जिसे भारत का प्रथम स्वतन्त्रता संग्राम कहा गया।